फतेह इबारत Fateh Ibarat Lyrics in Hindi – Satinder Sartaaj
फतेह इबारत Fateh Ibarat Lyrics in Hindi – Satinder Sartaaj
  • Post author:

Fateh Ibarat Lyrics in Hindi by Satinder Sartaaj is Latest Punjabi song, sung by Satinder Sartaaj. The music of this brand new song is given by Beat Minister while composed by Satinder Sartaaj. Fateh Ibarat Song Lyrics are penned down by Satinder Sartaaj. This song has been released on “SagaHits” YouTube channel.

Fateh Ibarat Song Details:-
Song: Fateh Ibarat
Singer: Satinder Sartaaj
Lyrics: Satinder Sartaaj
Composer: Satinder Sartaaj
Music: Beat Minister
Label: Saga Music
Release date: Apr 6, 2021

Fateh Ibarat Lyrics in Hindi – Satinder Sartaaj

जे साड्डी तक़दीर’च फतेह इबारत लिखी होई
तां फिर रब ने कदमा नुवी डोलण नई देना
जे वैरी गुलदस्ता लेके ना आया तां फेर
आपां नेवी किले दा बूहा खोलण नई देना

जे साड्डी तक़दीर’च फतेह इबारत लिखी होई
तां फिर रब ने कदमा नुवी डोलण नई देना
जे वैरी गुलदस्ता लेके ना आया तां फेर
आपां नेवी किले दा बूहा खोलण नई देना

जे अँखियाँ दे डोरे सुरखे ओ नाबी हो गई तां
जे नफरत दी दारू नाळ शराबी हो गए तां
जेकर सज्जन हदों वध हिसाबी हो गई तां
दिल दा खात आपां फेर फ़रोलण नई देना

जे साड्डी तक़दीर’च फतेह इबारत लिखी होई
तां फिर रब ने कदमा नुवी डोलण नई देना

असी बेशक कंजरा नाळ हथ ते लीका वाह लई
जंग दे घोड़े मेले दे विच नचण ला लई
असी बिनाशक जीत के खुद हारा अपना लई
पर गेरियाँ हथ तक़दीरां नु तोलन नई देना

जे वैरी गुलदस्ता लेके ना आया तां फेर
आपां नेवी किले दा बूहा खोलण नई देना

बोहत वक़्त बर्बाद हो गया गलती कर करके
तू वी खौफ जेहे विच रहन्दी सी जी डर डर के
इस मुकाम ते बख्शीश नाळ पहुँचे आ मर मार के
हुन दिमाग नु दिल दे आगे बोलन नई देना

जे साड़ी तक़दीर’च फतेह इबारत लिखी होई
ता फिर रब ने कदमा नुवी डोलण नई देना
में ते मेरी जमीर दोहा ने एक कर लेया ऐ
हुन मासूम सुफनेय ने वी होश फड़ लेया ऐ
में अपनी हस्ति नु हुन तलिये ते धर लेया ऐ
हुन सदरा दा ताज किसे नु रौलन नई देना

जे वैरी गुलदस्ता लेके ना आया तां फेर
आपां नेवी किले दा बूहा खोलण नई देना
जे साड्डी तक़दीर’च फतेह इबारत लिखी होई
तां फिर रब ने कदमा नुवी डोलण नई देना

जे वैरी गुलदस्ता लेके ना आया तां फेर
आपां नेवी किले दा बूहा खोलण नई देना

तां फिर रब ने कदमा नुवी डोलण नई देना
दिल दा खात आपां फेर फ़रोलण नई देना
हुन गैरां हथ तक़दीरां नु तोलन नई देना
हुन दिमाग नु दिल दे आगे बोलन नई देना
हुन सदरा दा ताज किसे नु रौलन नई देना

Leave a Reply