स्प्लेंडर Splendor Lyrics in Hindi – Satbir Aujla
स्प्लेंडर Splendor Lyrics in Hindi – Satbir Aujla
  • Post author:

Welcome to Lyricstv

Splendor lyrics in hindi Satbir aujla. Splendor एक punjabi song हैं जिसे Satbir aujla ने गाया हैं। Splendor song का music Sharry nexus ने दिया हैं जबकि compose किया हैं Satbir aujla ने। Splendor lyrics Satbir aujla ने लिखें हैं। Splendor song को youtube के “Geet Mp3” channel पर रिलीज़ किया गया हैं।

Splendor lyrics in hindi Satbir aujla
Splendor lyrics in hindi Satbir aujla

Splendor Song Details:-
Title
– Splendor
Singer – Satbir Aujla
Lyrics – Satbir Aujla
Music – Sharry Nexus
Composer – Satbir Aujla
Label – Geet Mp3
Release date – Feb 5, 2021

Splendor lyrics in hindi – Satbir aujla

मठा मठा चलदा सी
Splendor तेरा वे
तेरे पीठ उत्ते सर रख के सी
जी लगदा मेरा वे

तेरा भोला जेहा चेहरा तक के
बड़ा औखा साम्भ दी सी वे मैं जान नू

स्प्लेंडर ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू
हीरो हौंडा उत्ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू

छड दा सी जेहड़ी वे
तू झूठी कैंटीन विच
किन्नी वारी पित्ती आ मैं चा वे
हर रंग दी सी चुन्नी किट विच रखदी
वे तेरी पग्ग नाल लैंदी सी मिला वे

Topper रकान ने वे बंक बड़े मारे ने
तेरे पीछे चन्ना चन्ना गिने बड़े तारे ने

चन्न विचों दिखेया ऐ तू वे
तक्केया ऐ जदों आसमान नू

Splendor ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू
हीरो हौंडा उत्ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू

Just friend आप्पां रह गये बस दोवें
अग्गे ही ना वधि कदे बात वे
अज्ज वी मैं ठण्ड विच बन लेनी आ
तू जेहड़ा gift च दित्ता सी scarf वे

खौरे चन्ना किन्नी वार हिक्क नाल लायी वे
तेरे नाल चोरी इक फोटो सी कराई वे

अज्ज वी मैं साम्भ साम्भ रखदी
दिल चंदरा जेहा समझाण नू

Splendor ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू
हीरो हौंडा उत्ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू

Classroom विच चन्ना औद्दा ना कोई सी
Farewell वाले दिन कल्ली बह के रोई सी
आखिरी सी मौका तैनू चन्ना कुझ केहन दा
चंदरे जे दिल कोलों हिम्मत ना होई सी

सतबीर वे माहडेयाँ हालातां आली हो गयी आ
सच दस्सां हुन तां जवाकां वाली हो गयी आ

बाहिं मेरे चूड़ा पै गया
कोई ले गया विआह के तेरी जान नू

Sharry Nexus!

Splendor ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू
हीरो हौंडा उत्ते औंण वाले मुंडेया
तू हाले तक चेते आ रकान नू

ना भुल्ली झुटे Splendor दे
मैनु याद आउंदे ने चिसा च
किन्ना ही पागलपन मेरा
जो लिखी बैठा ऐं गीतां च
तू लिखी बैठा ऐं गीतां च

Leave a Reply